at-hindi-weblog

छितरी इधर उधर वो शाश्वत चमक लिये
देखी जब रेत पर बिखरी अनाम सीपियाँ
मचलता मन इन्हें बटोर रख छोड़ने को
न जाने यह हैं किसका इतिहास समेटे

पोस्ट सदस्यता हेतु अपना ई-पता भेजें

28 August 2009

जो कभी हुआ करता, अपना इन्डिया

Technorati icon

यद्यपि इन सँकलित चित्रों का ब्लागपोस्ट से कोई सरोकार नहीं है, फिर भी इन्हें एक स्थान पर सँजो रखने की गरज़ से बटोरा है । यदि हमारी अपनी पीढ़ी को यह चित्र विचित्र किन्तु सत्य लग सकते हैं, तो आने वाले कई दशकों के बाद इन्हें देखना रोमाचँक कम लोमहर्षक अधिक होगा । क्या पता, अपने विनाश का ताना बाना बुन रही हमारी सभ्यता इन चित्रों को साबूत रहने भी देगी ? तब इन्हें देख  एक सिहरन होगी.. क्या हम ऎसे थे ?
( अधिकाँश चित्र लँदन म्यूजियम के वेबसाइट और  जिन अन्य सूत्रों से सँकलित हैं, उन सबका आभार )

vaishnav                                                 वैष्णवजन तो तेने कहिये

Viceroy House n Parliament                    वायसराय हाउस ( अब राष्ट्रपति भवन ) और पार्लियामेन्ट बना ही था

GT ROAD                        तब शेरशाह सूरी मार्ग ( अब का जी०टी० रोड ) पक्का न हुआ था

Nauch Girls Sonagachhi          लेकिन तब की राजधानी कलकत्ता में सोनागाछी की नाच कन्यायें आबाद हो चुकी थीं

Jama Maszid Delhi 1908 अपनी दिल्ली भी तो तब ज़ामा मस्ज़िद के आसपास ही सिमटी हुई थी, नई दिल्ली बसना शुरु हुई थी

A Princess posing over her Hiunt                   राजे रजवाड़े निरीह जन्तुओं के आखेट के अपने शौर्य को ही सहेजे फिरते थे

a gathering of women in a party Bombay 1910   अँग्रेज़ बहादुर की कृपा से बने नवधनाढ्यों  और अभिजात वर्ग का एकमात्र श्रम आमोद प्रमोद ही था

Desi Slaves Serving a Firangi Master                यह और बात थी कि, तब हम ग़ुलाम थे , जैसे दासता ही हमारी नियति थी

Imperial Airways 'Hanno' Planes carried official Mails , Its refuelling at Shrjah 1913 तक तो हमारे शासन और शोषण की बागडोर सुदूर लन्दन से हवाई डाक द्वारा चलाई जाने लगी

 

7 सुधीजन टिपियाइन हैं:

Udan Tashtari टिपियाइन कि

बड़ा रोचक संकल्न रहा...संग्रहणीय है!! आपका बहुत आभार.

आज आपका जन्म दिन है.

जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं.

अनूप शुक्ल टिपियाइन कि

जय हो! जन्मदिन मुबारक हो!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi टिपियाइन कि

संकलन बहुत कीमती है। दुनिया लगातार बदलती है मौसम भी और वायरस भी।

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi टिपियाइन कि

जन्मदिन पर बहुत बहुत बधाइयाँ।

वाणी गीत टिपियाइन कि

अद्भुत संकलन ..!!

पी.सी.गोदियाल टिपियाइन कि

Fantastic collection, congratulation !!!

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर टिपियाइन कि

bahut sundar.
pataa nahin tab ke is hisse ko kyaa kahen INDIA ya BHARAT?

लगे हाथ टिप्पणी भी मिल जाती, तो...

आपकी टिप्पणी ?


कुछ भी.., कैसा भी...बस, यूँ ही ?
ताकि इस ललित पृष्ठ पर अँकित रहे आपकी बहूमूल्य उपस्थिति !

इन रचनाओं के यहाँ होने का मतलब
अँतर्जाल एवं मुद्रण से समकालीन साहित्य के
चुने हुये अँशों का अव्यवसायिक सँकलन

(संकलक एवं योगदानकर्ता के निताँत व्यक्तिगत रूचि पर निर्भर सँग्रह !
आवश्यक नहीं, कि पाठक इसकी गुणवत्ता से सहमत ही हों )

उत्तम रचनायें सुझायें, या भेजे !

उद्घृत रचनाओं का सम्पूर्ण स्वत्वाधिकार सँबन्धित लेखको एवँ प्रकाशकों के आधीन
Creative Commons License
ThisBlog by amar4hindi is licensed under a
Creative Commons Attribution-Non-Commercial-Share Alike 2.5 India License.
Based on a works at Hindi Blogs,Writings,Publications,Translations
Permissions beyond the scope of this license may be available at http://www.amar4hindi.com

लेबल.चिप्पियाँ
>

डा. अनुराग आर्य

अभिषेक ओझा

  • लिखावट - कुछ दिनों पहले एक मीटिंग में किसी को फाउंटेन पेन से लिखते देखा। हरे रंग की स्याही। घुमावदार लिखावट - *कैलीग्राफी *जैसी । मुझे ठीक ठीक याद नहीं इससे पहले म...
    4 weeks ago
  • Dcember notes part 2 - उसे S .L. E है , वो हंसकर कहती है "ऊपर वाले ने तमाम उम्र दवाओ के पैकेज के साथ भेजा है " पर चीज़े उतनी आसान नहीं है जितना बाहर वालो को लगता है ,उसकी बीमारी अ...
    9 months ago
  • मछली का नाम मार्गरेटा..!! - मछली का नाम मार्गरेटा.. यूँ तो मछली का नाम गुडिया पिंकी विमली शब्बो कुछ भी हो सकता था लेकिन मालकिन को मार्गरेटा नाम बहुत पसंद था.. मालकिन मुझे अलबत्ता झल...
    2 years ago

भाई कूश