at-hindi-weblog

छितरी इधर उधर वो शाश्वत चमक लिये
देखी जब रेत पर बिखरी अनाम सीपियाँ
मचलता मन इन्हें बटोर रख छोड़ने को
न जाने यह हैं किसका इतिहास समेटे

पोस्ट सदस्यता हेतु अपना ई-पता भेजें

6 June 2010

अमेरिका का राष्ट्रपति… और उसके मज़े

Technorati icon

पिछले दिनों, करीब दो-ढाई माह पहले एक फ़ीचर पढ़ा था, “ अफ़गानिस्तान में फँसा अभिमन्यु – अमेरिका “ !  हालाँकि इसमें सामयिक वस्तुस्थितियाँ पूरी ईमानदारी से बयान की गयीं थी, पर मुझे इस फ़ीचर के शीर्षक में अभिमन्यु का होना नागवार गुज़रा था । हठात मुझे बरसों पहले एक कविता याद आयी, “ अमेरिका के राश्ट्रपति के मज़े “ उसके शब्द भले ही मानस से विस्मृत हो गये थे, पर अपने भाव के साथ उस कविता का पूरा प्रभाव  मुझ पर अरसे तक बना रहा । वह सब अनायास ही ताज़ा हो आया, पुनः पढ़ने की चाह हुई !

और… जैसा कि होता है, इस कविता को पुनः पढ़ने की चाह एक बेचैनी में बदल गयी । साहित्यानुराग जब व्यसन बन जाये, तो किताबों से अटी आलमारियाँ पुराने सँदर्भों को तलाशने में आपके छक्के छुड़ा देती हैं । टुकड़ों टुकड़ों में कई दिनों के बाद कुछ सफ़हों पर बरामद हुये ’ मज़े करते हुये अमेरिका के राष्ट्रपति ’ ! तेजी से बदलते हुये घटनाक्रम में भी अब तक यह रचना अपनी प्रासँगिकता को पूरी  तरह से  बखूबी जी रही है ।

oh-ho-president-usa

अमेरिका का राष्ट्रपति होने के बड़े मजे हैं 
 इसे इस तरह भी कहा जा सकता है
यदि किसी देश का राष्ट्रपति होने के मजे हैं
तो वह बस अमेरिका का राष्ट्रपति होने में हैं
या इस तरह भी यदि कहीं किसी राष्ट्रपति के
मजे है तो वह बस अमेरिका के हैं

अमेरिका के राष्ट्रपति की क्या यह कोई कम मजेदारी है
कि वह जब चाहे किसी छोटे बड़े देश को
अपने सामने कान पकड़कर उठक बैठक लगवा सकता है
यारी यारी में किसी भी मित्र देश के साथ वह
गर्दन में बांह डालकर चलते हुए
जरा सी बात पर उसकी गर्दन दबा सकता है
अपने पैरों पर दौड़ने की कोशिश में जुटे किसी भी देश की
गति में चुपके से मारकर टंगड़ी उसे मुंह के भर धड़ाम से
जमीन पर गिरने के लिये कर सकता है विवश

उसके क्या मजे हैं कि वह किसी भी देश का
शासन संभालने के लिए अपनी छाया भेज सकता है
और उस तरह अमेरिका का राष्ट्रपति
उस देश का भी राष्ट्रपति हो सकता है

वह कभी भी संयुक्त राष्ट संघ पहुंच कर पीछे से
महासचिव के सिर पर धप्पा मारकर छुप सकता है
जरूरतमंदों के लिए मदद भरकर आगे बढ़ चुके
टकों के पहियों की बीच रास्ते में हवा निकाल सकता है
कभी भी अंतराष्टीय मुद्रा कोष का स्ट्राँग रूम खुलवा कर
उसमें रखे पैसे गिन सकता है विश्व बैंक के दरवाजे पर
ताला लटका कर उसकी चाबी अपनी जेब में रख सकता है
और तो और इतने सबके बाद वह अंगूठे से अपनी नाक
उठा कर अपना हाथ नचाते हुए स्टेचू
फ लिबर्टी के पास
खड़ा हो कर वह सबको अपनी जीभ चिढ़ा सकता है

अमेरिका के राष्ट्रपति होने के जो मजे है उनमें से
एक मजा ये भी है कि किसी उम्र में उसका चेहरा
प्लेब्वाय के मुख पृष्ठ पर छपने लायक बना रहता है
उसके पुरूषार्थ के धब्बे उसके दफतर की युवा
महिला कर्मचारियों के अधोवस्त्रों पर सगर्व पाये जाते हैं
वह खुद नियमों कानूनों को नहीं मानता तो
उसके बच्चे भी कुछ नहीं सीख पाते उससे और इस वजह से
अक्सर सुधारगृहों में सजा भुगतते सुधरते पाये जाते है
यह भी कितना मजेदार है कि अमेरिका के राष्ट्रपति का घर
सुधारगृह के स्तर का भी नहीं है

उसके इतने मजे हैं कि उसे इस बात से
कोई फर्क नहीं पड़ता कि कोई उससे कितनी नफरत करता है
उसके चाहने भर से किसी को भी उससे
उसके प्रति अपनी नफरत के बराबर प्रेम या
अपने प्रेम के बराबर नफरत करनी पड़ सकती है
न चाहते हुए भी अपने बच्चों को
अ से अमेरिका ब से ब्रिटेन यह वर्णमाला पढ़ाने
के लिये होना पड़ सकता है लाचार

मजे-मजे वह जब चाहे पेन्टागन की बनी अपनी
एक ऐसी कार जिसके दरवाजों से, दोस्ता और दुश्मन
दोनों की तरह बाहर निकलने की सुविधा है,
वह अपने मूँछ पर ताव देता बाहर निकल सकता है
वह अपने ही पैदा किये दुश्मन को मारने अपनी गेंद ढूंढते
जिद्दी बच्चे की तरह किसी भी देश को खंगाल सकता है
वह वारिसों को ही अपनी विरासत लूटने के लिये उकसा सकता है
वह वियतनाम को अपने सिर की तरह खुजा सकता है  
कंबोदिया को नोच सकता है ब्रिटेन की तरह

वह अपने इतिहास को पूरी दुनिया में  
मुख्य इतिहास की तरह संभालने
और शेष दुनिया को अपना अपना इतिहास
उपइतिहास की तरह मानने की दे सकता है हिदायत
अपने ही देशवासियों के साथ साथ चढ़ाते हुए
अपने हथियारों की बाहें अन्य देशों से भी
कह सकता है जो मेरी लड़ाई में साथ नहीं मेरे
वह इतिहास में भी साथ नहीं होंगे मेरे
और मेरे बिना इतिहास भी दुनिया का क्या इतिहास
अमेरिका के राष्ट्रपति होने के जितने मजे हैं वह
दुनिया के किसी देश के राष्ट्रपति होने के नहीं

आप हो जायें किसी भी देश के राष्ट्रपति
आपके राष्ट्रपति होने का तब क्या मतलब
जब आपकी जेबें डालरों से न भरी हों
इस मामले में एक अमेरिका का राष्ट्रपति ही है
जिसकी जेब उलीचने की हद तक डालरों से भरी रहती है

अपने कोट की जेबों में भरे डालरों के मजेदार खेल में 
वह इतना माहिर होता है कि उसके दायीं जेब से
डालर निकालकर बायीं तरफ उछालते ही
इराक हो जाता है और बायीं जब से निकालकर
दायीं तरफ उछालते ही हो जाता है अफगान
वह यूरों को पुचकारता है उसे ज्यादा न उछलने की
सलाह देता है और डालर के कान में
धीरज बनाये रखने के लिए फुसफुसाता है

अमेरिका का राष्ट्रपति बस अमेरिका का राष्ट्रपति
होने की वजह से इतने मजे में दिखाई देता है
कि उसकी रगड़ने की वजह से अक्सर
लाल हो जाती आंखों में लगातार किरकिरी सा चुभता
क्यूबा किसी को दिखाई ही नहीं देता
अपने प्रेम के बराबर नफरत करनी पड़ सकती है न चाहते हुये
क्योंकि अमेरिका के राष्ट्रपति होने के अपने ही मज़े हैं

मूल स्रोत : पहल’ 86..   त्रैमासिकी अँक - मई, जून, जुलाई 2007..
खँड - पहल-कवितायें-विशेष .. .. रचना- श्री पवन करण पृष्ठ 52-54

प्रpledge of labor party-usaसँगतः  अँतर्जाल से एक अन्य छवि

 

 

 

 

 

 

 

 

 

मुझे लगता है कि इस कविता की प्रासँगिकता पर आज भी कोई प्रश्नचिन्ह नहीं उठ सकता, सो इसे यहाँ सहेज़ दिया । जबकि यह बता दूँ कि यह कविता श्री पवन करण द्वारा सन 2005 के पूर्वार्ध में लिखी गयी थी और पहल ’86 के  अँक में  प्रथम  बार  दृष्टिगोचर  हुई  है । स्थितियाँ जस की तस हैं, बल्कि वह बदतर की ओर ही घिसटती जा रही हैं । अमेरिका और अमेरिकी राष्ट्रपति का मूल चरित्र अपनी जगह बरकरार है, राष्ट्रपति का नाम और नस्ल बदल जाने मात्र से क्या होता है ? 

7 सुधीजन टिपियाइन हैं:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen टिपियाइन कि

व्यंग्य है. ठीक है लेकिन अमेरिका का राष्ट्रपति अपने किये पर माफी मांगता है, उसके बच्चे गलती करने पर सजा भुगतते हैं, वह अपने और अपने नागरिकों के हितों के लिये कुछ भी करने को तैयार है और हम?
हम अपने लोगों को मरवाते हैं और संयम बरतते हैं, निन्दा कर देते हैं. एक दरोगा की औलाद कानून की एक कर दे लेकिन उसे कौन पकड़े और कौन सजा दे. राष्ट्रपति के बच्चे की बात तो बहुत दूर.
यहां बलात्कार सिद्ध होने पर भी नेता कहे कि जनता की अदालत में जायेंगे तो मान लीजिये कि हमारी नैतिकता कहां घुस गई है..
अमेरिका की आलोचना कर बुद्धिजीवी बनना तो फैशन है...

Sanjeet Tripathi टिपियाइन कि

kavita vakai ekdam hi sahi, shadnar hai lekin dusri nazar me jaise hi bhartiya nagarkik ki tippani par nazar padti hai to kuchh kahne ki bajay sochne me lag jata hu ki kaha par galat hain hamare bharitya nagrik....

डा० अमर कुमार टिपियाइन कि


@ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
आप सही कह रहे हैं किन्तु क्या हमने स्वयँ ही ऎसी स्थितियाँ नहीं बनायी हैं, या बनने देने को मौन रह कर बढ़ावा नहीं दिया है ? बुद्धिजीवी होने का दँभ मैंनें कभी भी न रखा, क्योंकि मुझे व्यक्तिगत तौर पर इस वर्ग के ख़्याली नपुँसक कुलाबे अपमानजनक लगते रहे हैं ।
बाकी यहाँ मेरा उद्देश्य एक अच्छी रचना को सहेज़ना भर है, एक सामान्य सहमति और बहस के रास्ते खुले हुये हैं.. सभी का स्वागत है, देखिये..

डा० अमर कुमार टिपियाइन कि


@ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
पुनश्चः
पिछले 15 अगस्त को आपने स्वीकार किया है कि " हम ही वह लोग हैं जो सड़क पर अतिक्रमण होने पर दूसरों को कोसते हैं, शासन को गालियाँ देते हैं, लेकिन मौका मिलने पर घरों के आगे ग्रिल लगाकर जगह घेरने से नहीं चूकते ।
हम लोग अपनी संस्कृति, अपनी परम्पराओं पर इतराते रहते हैं, और पश्चिम का मजाक उड़ाते रहते हैं, लेकिन हम लोग दोहरे मापदंडों वाले लोग हैं, दिखावे से ग्रस्त ।"
तो हम दूसरों के बेदाग छूटने का और बेलगाम साँढ़ की तरह व्यवहार करने को चुनौती किस नैतिक आधार पर दें ?
साथ ही सवाल यह है कि जनता जिसे निरीह जनता कहा जाता है, उसके साथ या उसके हितों के लिये कितने बुद्धिजीवी इस समय देश में सक्रिय हैं, या सक्रिय न भी हों तो उसके साथ खड़े होने को तैयार हैं ?

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi टिपियाइन कि

मजेदार कविता,
पर यह पंक्ति पसंद आई,
यह भी कितना मजेदार है कि अमेरिका के राष्ट्रपति का घर
सुधारगृह के स्तर का भी नहीं है

अनूप शुक्ल टिपियाइन कि

:)
अमेरिका में उद्योगपतियों का एक गुट सड़क पर किसी आदमी को पकड़ता है,उसे व्हाइट हाउस ले जाता है और देशवासियों से कहता है-यह तुम्हारा राष्ट्रपति है।
अमरीकी और उनके मिथक

डॉ .अनुराग टिपियाइन कि

अनूप जी .....बजा फरमाए है गुरुवर...

लगे हाथ टिप्पणी भी मिल जाती, तो...

आपकी टिप्पणी ?


कुछ भी.., कैसा भी...बस, यूँ ही ?
ताकि इस ललित पृष्ठ पर अँकित रहे आपकी बहूमूल्य उपस्थिति !

इन रचनाओं के यहाँ होने का मतलब
अँतर्जाल एवं मुद्रण से समकालीन साहित्य के
चुने हुये अँशों का अव्यवसायिक सँकलन

(संकलक एवं योगदानकर्ता के निताँत व्यक्तिगत रूचि पर निर्भर सँग्रह !
आवश्यक नहीं, कि पाठक इसकी गुणवत्ता से सहमत ही हों )

उत्तम रचनायें सुझायें, या भेजे !

उद्घृत रचनाओं का सम्पूर्ण स्वत्वाधिकार सँबन्धित लेखको एवँ प्रकाशकों के आधीन
Creative Commons License
ThisBlog by amar4hindi is licensed under a
Creative Commons Attribution-Non-Commercial-Share Alike 2.5 India License.
Based on a works at Hindi Blogs,Writings,Publications,Translations
Permissions beyond the scope of this license may be available at http://www.amar4hindi.com

लेबल.चिप्पियाँ
>

डा. अनुराग आर्य

अभिषेक ओझा

  • लिखावट - कुछ दिनों पहले एक मीटिंग में किसी को फाउंटेन पेन से लिखते देखा। हरे रंग की स्याही। घुमावदार लिखावट - *कैलीग्राफी *जैसी । मुझे ठीक ठीक याद नहीं इससे पहले म...
    2 months ago
  • Dcember notes part 2 - उसे S .L. E है , वो हंसकर कहती है "ऊपर वाले ने तमाम उम्र दवाओ के पैकेज के साथ भेजा है " पर चीज़े उतनी आसान नहीं है जितना बाहर वालो को लगता है ,उसकी बीमारी अ...
    11 months ago
  • मछली का नाम मार्गरेटा..!! - मछली का नाम मार्गरेटा.. यूँ तो मछली का नाम गुडिया पिंकी विमली शब्बो कुछ भी हो सकता था लेकिन मालकिन को मार्गरेटा नाम बहुत पसंद था.. मालकिन मुझे अलबत्ता झल...
    2 years ago

भाई कूश